Tuesday, February 24, 2009

मदरसे में बैठा मदारी…[संत-8]

गौरतलब है कि सूफी परंपरा के कलंदर और मदारी जैसे शब्दों का प्रचलित अर्थ हिन्दी में बाजीगर या बंदर-भालू का तमाशा दिखानेवाला ज्यादा प्रचलित हुआ। 212009-MISCELLANEOUS-Mumbai
नि र्गुण निराकार के साधक सूफियों की एक की एक धारा का नाम मदारी madari भी है। मदार madar या मदारी शब्द के बारे में हिन्दी उर्दू के संदर्भ ज्यादा जानकारी नहीं देते हैं। इसका अर्थ तो मिलता है मगर व्युत्पत्ति नहीं। शब्दकोशों में इसका मतलब बाजीगर, तमाशाबाज, कलाबाज बताया जाता है। मगर मदारी का सबसे लोकप्रिय अर्थ है भालू बंदर को नचानेवाला बाजीगर। इन अर्थो में मदारी का आध्यात्मिक पुरुष या सूफी संत के तौर पर परिचय नहीं मिलता है। सूफियों के मदार पंथ को सीधे सीधे हज़रत सैय्यद बदीउद्दीन ज़िंदा शाह मदार से जोड़ा जाता है सीरिया में जन्मे और कई जगह घूमते-घामते उत्तर प्रदेश में कानपुर के पास मकनपुर makanpur में आ टिके जहां उनकी दरगाह है और दुनियाभर से इस पंथ के अनुयायियों का यहां मेला जुटता है। 
क बात तो तय है कि मदारी शब्द सीधे सीधे बाजीगर से जुड़ा हुआ नहीं है। संत-सन्यासी के चरित्र से मेल खाने वाली कोई भी बात अगर इस शब्द से जुड़ी है तो वह है काला लंबा चोगा जिसे मदारी पंथ के संत भी धारण करते हैं और बाजीगर मदारी भी। संत के चरित्र की सबसे बड़ी खूबी पथ प्रदर्शक और गुरु की ही होती है जिसका काम अपने अनुयायियों को सच्चाई की राह दिखाना और सिखाना है। मदारी शब्द का रिश्ता अरबी शब्द मदार से जुड़ता है जिसके मायने होते हैं केन्द्र, वृत्त, घेरा, गोलाकार स्थान। मदार शब्द बना है सेमेटिक धातु द-र-स से अरबी में कुछ शब्द बने है दिरस या दरासा जिसका अर्थ होता है शिक्षा, ज्ञान, पढ़ाई। दर्रासा का अर्थ होता है पढ़ाना। दरिस या दुर्रुस का मतलब होता है कक्षा, पाठ्यक्रम, सबक, पाठ आदि। इस शब्द समूह के साथ अरबी का एक उपसर्ग ‘म’ भी जुड़ता है जिससे कुछ अन्य शब्द भी बनते हैं जैसे मुदर्रिस mudarris यानी अध्यापक। यह शब्द फारसी उर्दू के जरिये हिन्दी में भी कभी कभी इस्तेमाल होता है।
शिक्षा से जुडे इस शब्द समूह का सबसे महत्वपूर्ण शब्द है मदरसा madrasa जिससे हिन्दी भाषी सर्वाधिक परिचित हैं। मदरसा यानी पाठशाला, शिक्षास्थल, स्कूल, शाला, विद्यालय अथवा गुरुकुल आदि। प्रायः हर सभ्यता में गुरुकुल की परंपरा रही है। पूर्व में चीन, जापान, भारत से लेकर पश्चिचम में ग्रीक और रोमन सभ्यता तक इसके साक्ष्य मिलते हैं। गुरुकुल का अर्थ ही गुरु के साथ रहकर विद्यार्जन करना है। प्राचीन ऋषि-मुनि अपने दोनो और शिष्यों को घेरा बांधकर बैठाते थे और फिर शिक्षा देते थे। दिरस से मदरसा तक पूरी शब्द श्रंखला में मूल भाव शिक्षा ही है। इसकी अगली कड़ी है मदार जो इसी धातु से जन्मा है जिसका अर्थ होता है फकीरों के एक सम्प्रदाय का प्रमुख या संरक्षक।  केन्द्र अथवा घेरे हुए स्थान के रूप में मदार के अंदर गुरुकुल का ही भाव समाया हुआ है। सूफी पंथ में समाए ध्यान, चिन्तन, मनन जैसी क्रियाओं के मद्देनजर मदार पर विचार करने के लिए सेमेटिक धातु द-र-स (d r s) की व्याप्ति अरबी के अलावा सबसे महत्वपूर्ण सेमेटिक भाषा हिब्रू में भी देखनी चाहिए। हिब्रू hebrew में इसका रूप होता है drsh अर्थात द्रश जिसमें गुरु की सोहबत में प्रभु भक्ति करने अथवा ईश्वरीय ज्ञान की खोज का भाव है। पुराने ज़माने में शिक्षा का स्वरूप मूलतः धार्मिक व ईश्वरीय ज्ञान ही था। मदार शब्द में न सिर्फ चिंतन, मनन का स्थान, बल्कि विद्या केन्द्र का भाव भी है। ध्यानकेन्द्र गोल, मंडलाकार होते हैं। इसे किसी भी धर्म के आराधना स्थलों में देखा जा सकता है जो मुख्यतः गुम्बदनुमा कक्ष ही होते हैं। स्पष्ट है कि मदारी पंथ का रिश्ता मदार शब्द से ही जुड़ता है।
मोहम्मद ताहिर संपादित एन्साइक्लोपेडिक सर्वे आफ इस्लामिक कल्चर में सूफी मत पर चीन के के ताओवादी प्रभाव की चर्चा करते हुए अहमद अनानी ने मलंग की व्युत्पत्ति पर चर्चा की है। अनान साहब के उक्त आलेख से ही मदार के बारे में भी महत्वपूर्ण जानकारी मिलती है। वे इस संदर्भ में दो चीनी शब्दों दाओ रह् और दाहो शी का उल्लेख करते हैं। दाओ शी ताओवादी शब्दावली में आता है जिसका मतलब है ताओ पंथ का गुरु, शिक्षक। दाओ-रह् का अर्थ भी करीब-करीब यही है फर्क सिर्फ अंतिम पद का है। रह् का अर्थ होता है अनुयायी यानी ताओपंथ का अनुयायी। इस तरह इस तरह मांग-दाओ-रह mang-dao-erh से बना मा-दा-र जिसने मदार का रूप लिया जिसमें गुरू, शिक्षक, मार्गदर्शक जैसे भाव समाहित हुए।
RangeOfPaperColoursHg011 यह गौरतलब समानता है  कि मध्यएशिया में पनपे धार्मिक आंदोलन से उपजे कलंदर, फकीर, मलंग और मदारी जैसे शब्दों का हिन्दुस्तान आने पर आध्यात्मिक गरिमा के साथ साथ जादूगर, बाजीगर और भालू-बंदरों का तमाशा दिखानेवाले समुदायों के रूप में भी अर्थ विस्तार हुआ
हिब्रू और अरबी arabic के क्रमशः द्रश दिरस के मूल में ज्ञान की खोज अथवा शिक्षा जैसे भाव यूं ही नहीं है। मेरे विचार में यह इंडो-ईरानी प्रभाव है जिसकी व्याप्ति सेमेटिक भाषा परिवार से लेकर सिनो-तिब्बती परिवार की चीनी भाषा पर भी पडा। गौर करें संस्कृत धातु ‘ऋ’ या ‘र’ पर जिसमें जाने और पाने का भाव है। इसमें रास्ते का भाव है जिसे ज्ञानमार्ग से जोड़ा जाता है। इससे बने संस्कृत के ऋषि शब्द का अर्थ गुरू ही है जो ज्ञान की राह बताता है। ऋषि शब्द रिष् से बना है। रिष् और द्रिश की समानता गौरतलब है। फारसी में इसी धातु मूल से राह, राहगीर, राही, रहबर जैसे शब्द बने हैं वहीं ऋषि के समतुल्य मुर्शिद, राशिद जैसे शब्द भी बने हैं। मदार के चीनी भाषा से व्युत्पत्ति का आधार ध्वनिसाम्य और अर्थसाम्य है। हालांकि चीनी मूल के दाओ रह् शब्द में भी वैदिक ‘ऋ’ का असर ही मानना चाहिए। सेमेटिक परिवार में इंडो-ईरानी प्रभाव के बावजूद द-र-स धातु का स्वतंत्र रूप बना जिसने ‘र’ अथवा ‘ऋ’ के भावों को खुद में समोए रखा।
गौरतलब है कि सूफी परंपरा के कलंदर और मदारी जैसे शब्दों का प्रचलित अर्थ हिन्दी में बाजीगर या बंदर-भालू का तमाशा दिखानेवाला ज्यादा प्रचलित हुआ। तमाशेबाज मदारी शब्द संभवतः इसलिए चल पड़ा क्योंकि ये लोग भी अपने पशुओं को कलाबाजी सिखाते हैं, उन्हें प्रशिक्षित करते हैं। अब इन बाजीगरों के लिए समाज ने फकीरों के अलग-अलग समुदायों से ही पहचान क्यों तलाशी गई, अथवा कलंदरों और मदारियों के साथ भालू-बंदर कैसे जुड़े यह अलग शोध का विषय है। अनानी कहते हैं कि नूर उल लुगात के मुताबिक मलंग शाह मदार के अनुयायियों को कहा जाता है। शाह मदार सूफी मत के मदारी सम्प्रदाय के प्रवर्तक माने जाते हैं। यह गौरतलब समानता है कि मध्यएशिया में पनपे धार्मिक आंदोलन से उपजे कलंदर, फकीर, मलंग और मदारी जैसे शब्दों का हिन्दुस्तान आने पर आध्यात्मिक गरिमा के साथ साथ जादूगर, बाजीगर और भालू-बंदरों का तमाशा दिखानेवाले समुदायों के रूप में भी अर्थ विस्तार हुआ।

ये सफर आपको कैसा लगा ? पसंद आया हो तो यहां क्लिक करें

14 कमेंट्स:

Udan Tashtari said...

मदरसे से मदारी-मुझे लगता तो था :) मगर आज आपने सोच को पुख्ता कर दिया. बहुत आभार इस ज्ञान का.

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

मदार नाम का एक वृक्ष भी है, उस का भी इस से कोई संबंध है?

dhiru singh {धीरू सिंह} said...

कहां से कहाँ तक पहुचते है शब्दों की उत्पति की खोज मे , बेहद मुश्किल कार्य सरलता से प्रस्तुत कर रहे है आप . आपको मेने अपना मुदर्रिस मान लिया है

विष्‍णु बैरागी said...

द्विेदीजी ने तिस 'मदार' का उल्‍लेख किया है वह 'आक' है। उसका और मदारी का कोई अन्‍तर्सम्‍बन्‍ध न होना तनिक अचरज ही पैदा कर रहा है।

Dr. Chandra Kumar Jain said...

यह भी सदाबहार
सार्थक.
===============
डॉ.चन्द्रकुमार जैन

विनय said...

ज्ञान की भंडार हैं आप!

---
चाँद, बादल और शाम

ज्ञानदत्त । GD Pandey said...

क्या अर्थ बदलते हैम समय के साथ! एक दशक में मदरसा शिक्षालय से फण्डामेण्टलिज्म का सिंबल बन गया!

sanjay vyas said...

निवृति मार्ग को हम शायद विस्मित भाव से ज़्यादा देखते है तभी तो हिंदू योगी भी कालांतर में माँगने वाले जोगियों में तब्दील हो गए.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

मनन और चिन्तन शब्दों का करके भारी।
सत्य वचन, मकतब में रहते सभी मदारी।।

अजित वडनेरकर said...

@दिनेशराय द्विवेदी/विष्ण बैरागी
मदार नाम के जिस वृक्ष की बात कही जा रही है,वह आक का वृक्ष होता है। मझौले कद के इस वृक्ष पर सफेद-जामुनी आभा वाले चतुर्दल पुष्प होते हैं। खूबसूरत गुंथी हुई इसकी कलियां, डाली समेत बहुत खूबसूरत लगती हैं। इसे धतूरे का वृक्ष भी कहा जाता है। महाशिवरात्रि पर इसके फूलों शिवजी पर भी चढ़ाने की परंपरा है। राजगढ़ में हमारे घर के आसपास इसकी बहुत सी झाडि़यां थीं। संस्कृत में इसे मन्दारः कहते हैं। इसका प्राकृत रूप मंदाल है। मदार इससे ही बना है। शैक्षिक संदर्भों से जुड़े ऋष, द्रश अथवा द-र-स जैसी धातुओं से संबद्ध सेमेटिक मदार शब्द का मदार से कोई रिश्ता कैसे हो सकता है? उपसर्ग लगने से मदार या मदरसा जैसे रूप बने जबकि वनस्पति के तौर पर मदार तो स्वतंत्र रूप मेंमन्द्धातु से बना है।

रंजना said...

सचमुच संत तो मदारी(बाजीगर) ही होते हैं,जो स्वयं भी भक्ति में डूबे खोये होते हैं और औरों को भी अपने करतब से इस रस में निमग्न करने में चतुर होते हैं...
बहुत बहुत सुंदर वर्णन..........

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

"मदारी"
भारतीय जन जीवन मेँ रचा बसा हुआ पात्र
आज अर्थ घनता सहीत उपस्थित करने के लिये आभार !!
- लावण्या

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

आलेख पढ़ते हुए मदार पौधे का स्मरण होने से जो प्रश्न अनायास उत्पन्न हुआ उसे आप के सामने रखा। शंका समाधान के लिए शुक्रिया।

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

बहुत सुंदर पोस्ट!
अजित जी,ऐसा लगता है जैसे द-र-स और द्रश का दर्शन (दर्शन शास्त्र वाला) से नज़दीकी रिश्ता है.

नीचे दिया गया बक्सा प्रयोग करें हिन्दी में टाइप करने के लिए

Post a Comment


Blog Widget by LinkWithin